Category - Blog

सिने इंक और रेडियो मंज़िल पर उर्दू शायरी की कला पर एक नई शृंखला ‘इल्म-ए-शायरी’ सुनिए 

जाँ निसार अख़्तर ने क्या ख़ूब कहा है:  हम से पूछो के ग़ज़ल क्या है ग़ज़ल का फ़न क्या   चंद लफ़्ज़ों में कोई आग छुपा दी जाए  यह कहना ग़लत न होगा कि...